Tuesday, October 25, 2011

दिए









कुछ  जल  गए  यूँ  मेहमानी  के  दिए 
कि  न  इलज़ाम  हो  उनकी  मेजबानी  के  दिए 

ये  गुल  ए  शफक  और  ये  रंगीन  समां 
यादों  के  काफिले  मेरी  कहानी  के  दिए 

खुदा  मेरे  ख्वाब  दिखा  धीरे  धीरे 
पारिज़ाद  ये  चश्म  ए  नूरानी  के  दिए 

अल्फाज़  बिखरे  हैं  पड़े  गोशा  ए  ज़हन 
सफहों  पर  बिछा  दूं  मानी  के  दिए 

बेपरवाह  पैरों  में  बूंदों  की  पायल 
बारिश  में  जल  गए  जवानी  के  दिए 

परिंदे  आ  बैठे  हैं  वीरान  पेड़  पर 
मज़ार  पर  जल  उठे  जिंदगानी  के  दिए 

12 comments:

  1. दीपावली की हार्दिक शुभ कामनाएँ!

    ReplyDelete
  2. प्रभावशाली प्रस्तुति
    आपको और आपके प्रियजनों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें….!

    संजय भास्कर
    आदत....मुस्कुराने की
    नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. दीपावली की शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  4. सुंदर भाव लिए पंक्तियाँ.... दीपोत्सव की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत गज़ल

    दीपावली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. बेपरवाह पैरों में बूंदों की पायल
    बारिश में जल गए जवानी के दीये....

    सुभानाल्लाह .....
    मज़ा आ गया पढ़ कर ....
    बस गज़ब ही हैं सारे शेर ....

    ReplyDelete
  7. kya baat hai minoo di !
    aaj to aapki gazal padh kar maja aa gaya bahut bahut hi achha laga.
    alfaz nahi mil rahein hai likhne ke liye
    wah wah------
    poonam

    ReplyDelete
  8. आपने ब्लॉग पर आकार जो प्रोत्साहन दिया है उसके लिए आभारी हूं

    संजय भास्कर

    ReplyDelete
  9. वाह,क्या बात है.

    ReplyDelete
  10. ख़ूबसूरत गज़ल....अच्छा लिखती हैं आप!! आभार.

    www.belovedlife-santosh.blogspot.com

    ReplyDelete