Sunday, April 3, 2011

पहाड़






मेरे पहाड़ को कोई बूढा कहे मुझे अच्छा नहीं लगता है 
जो जन्मा ही नहीं वह भला बूढा कैसे हो सकता है 

पीली सरसों , लाल आढुओं, बादामों के पेड़ों से लदा
मुझे तो रंगीं, जवां और खुशमिजाज़ सा दिखता है 

दुर्गम चढ़ाइयों पर चढ़ कर फसलें उगाते हैं लोग 
भोले भाले और मेहनतकश इंसानों को जन्म देता है 

ठन्ड से हाथ पाँव हैं सुन्न मगर जिंदा हैं जज़्बात 
तभी तो दुश्मन की गोलियां रोज़ सीने पर खाता है  

सफ़ेद बर्फ की चादर पर मासूम आँखों वाले बच्चे 
इक पिता की तरह इन्हें काँधे पर बिठाये रखता है 

तंदूर के धुंए , बादलों और बारिशों से आँखें मलता
नीचे से आने वाले मेहमानों की राह ताका करता है

आजकल चारों तरफ जीत और जश्न का माहौल है
पैमाना है कि दरिया रात भर जाने कौन छलकता है

सितारों , आतिशबाजियों ,रोशनियों में जगमगाता
लगता है मानो जन्नत से उतर आया इक फ़रिश्ता है

जड़ी बूटियों की खुशबुएँ तैरती हैं जिसकी हवाओं में
देवताओं को पनाह देता या फिर खुद ही एक देवता है
  

18 comments:

  1. बहुत सुंदर ....आखिरी शेर तो कमाल का है.... बेमिसाल

    ReplyDelete
  2. meenu di
    bahut bahut badhiya prastuti .
    axhrshah puri kavita hi prakritik soundary ke saath bahut si baato ko smete hue hai . aakhir ki charo panktiyan behad -behad pasand aain.
    di main bahut bahut xhama chahti hun jo vilamb se aapko comment de rahi hun.
    karan aaj-kal swasthy ki aniymitata ke vajah se nt par niymit nahi ho pa rahi hun.
    atah sabko vilamb se hi tippni de rahi hun.
    xhama sahit
    poonam

    ReplyDelete
  3. bAHUT BADHIYA.PADH KAR BAHUT ACCHAA LAGA...

    ReplyDelete
  4. मेरे पहाड़ को कोई बूढा कहे मुझे अच्छा नहीं लगता है
    जो जन्मा ही नहीं वह भला बूढा कैसे हो सकता है

    बहुत सच कहा आपने …

    आदरणीया मीनू भगिया जी
    सादर सस्नेहाभिवादन !

    अच्छी रचना के लिए आभार !

    नवरात्रि की शुभकामनाएं !

    साथ ही…

    *नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !*

    नव संवत् का रवि नवल, दे स्नेहिल संस्पर्श !
    पल प्रतिपल हो हर्षमय, पथ पथ पर उत्कर्ष !!

    चैत्र शुक्ल शुभ प्रतिपदा, लाए शुभ संदेश !
    संवत् मंगलमय ! रहे नित नव सुख उन्मेष !!


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  5. सफ़ेद वर्फ की चादर पर मासूम आँखों वाले बच्चे ........खुबसूरत शेर , मुबारक हो

    ReplyDelete
  6. बहुत ही अच्छे शब्द है !मेरे ब्लॉग पर आये ! हवे अ गुड डे !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ....यह कैसे छूट गया पढ़ने से ? :)

    ReplyDelete
  8. बेमिसाल रचना ..हर शे'र गहरे अहसासों से परिपूर्ण ...आपका शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. आपके लेखन ने इसे जानदार और शानदार बना दिया है....

    ReplyDelete
  10. कुछ नयी सी वाक्‍य संरचनायें देखने को मि‍ली। तुकबंदी की बजाय ऐसे भी लि‍खा जा सकता है।

    ReplyDelete
  11. Meenu je, aap ko yahan aur is tarah pakar bahut sukhad anubhav hua. maine aap ko ek savedansheel doctor kee tarah dekha tha. ab ek sahriday kavi kee tarah dekhkar aap ke prati aatmeeyata aur badh gayee hai. facevook par bhee aap ne mujhe dhundh liya, yah aur bhee achchha raha. jald milenge.

    ReplyDelete
  12. shukriya subhash ji , aapka blog bhi dekha , baat- bebaat , bahut achha hai , sach mein bahut khushi hui.

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब ...! शुभकामनायें आपके लिए !

    ReplyDelete
  14. मनभावन अभिव्यक्ति ...बधाई

    ReplyDelete