Sunday, September 13, 2009









सदियाँ लग जाती है तब पत्थर दरकते 
हैं
 उनके सीने बन आब-शार उमड़ पड़ते हैं

No comments:

Post a Comment